आंकड़े फर्जी पाये जाने पर गन्ना किसानों के विरूद्ध होगी कार्यवाही : आयुक्त

0
1050

लखनऊ – गन्ना माफियाओं का उन्मूलन कर, वास्तविक कृषकों को गन्ना आपूर्ति में सहूलियत प्रदान करने तथा लघु एवं सीमांत कृषकों का उत्पीड़न एवं शोषण रोकने के लिए प्रदेश सरकार अभियान चलाया है। सरकार ने अराजक तत्वों को चिन्हित कर उनके विरूद्ध कड़ी कार्रवाई सुनिश्चित कराने के निर्देश दिये हैं। प्रदेश के गन्ना एवं चीनी आयुक्त संजय आर. भूसरेड्डी ने बताया कि गन्ना सर्वेक्षण का कार्य तेजी से चल रहा है और शीघ्र ही पूर्ण हो जायेगा। ऐसे कृषक, जिनके विरूद्व शिकायतें रही हैं, उन्हे चिन्ह्ति कर उनकी सूची तैयार कराने का कार्य भी कराया जा रहा है। इस सूची में इन किसानों की गत वर्ष की कुल भू-जोत एवं गन्ना क्षेत्रफल तथा इस वर्ष की भू-जोत व गन्ना क्षेत्रफल के आंकड़े संकलित कराये जा रहे हैं।

इसी सूची के आधार पर इन किसानों के भू-जोत का सत्यापन तथा गन्ना क्षेत्रफल की मौके पर जांच कराकर वास्तविक स्थिति की जानकारी की जायेगी। मुख्यालय से भी अधिकारियों को भेजकर औचक निरीक्षण कराया जायेगा तथा जिन किसानों के भू-अभिलेख व गन्ना सर्वेक्षण के आंकड़े फर्जी पाये जायेगें उनके विरूद्ध कड़ी कार्यवाही सुनिश्चित कराई जायेगी, जिसमें उनका सट्टा बंद करने व समिति सदस्यता खारिज करने और गन्ना मूल्य जब्त कराने के साथ-साथ संगत विधिक कार्रवाई भी कराई जायेगी। यदि इन फर्जी कार्यों में कोई कर्मचारी संलिप्त पाया जाता है तो उसके विरूद्ध भी कड़ी कार्रवाई की जायेगी।

गन्ना एवं चीनी आयुक्त ने यह भी बताया कि गन्ना सर्वेक्षण कार्य पूरा होने के तुरन्त बाद सर्वे प्रदर्शन का कार्य सभी गॉवों में कराया जायेगा। संबंधित गन्ना किसान इस सर्वे प्रदर्शन के समय अपने गन्ना क्षेत्रफल में त्रुटि उजागर होने पर तत्काल उसे मौके पर ही जांच कराकर ठीक करा लें, ताकि आगामी पेराई सत्र मे ंउनको गन्ना आपूर्ति में किसी प्रकार की कठिनाई न हो

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here