कल से पेट्रोल पंपों पर मिलेगा फास्टटैग बारकोड, मार्च तक सभी टोल पर अनिवार्य होगा

0
31

देश के सभी नेशनल हाईवे के टोल प्लाजा में मार्च तक फास्टैग लेन अनिवार्य कर दिया जाएगा। इसके लिए नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) सोमवार से देशभर के 800 पेट्रोल पंपों में वाहन चालकों को फास्टैग बारकोड उपलब्ध करवाएगा। ये बारकोड अगले 6 महीने में देशभर के 25 हजार पेट्रोल पंपों पर उपलब्ध करवा दिए जाएंगे। सोमवार को सड़क परिवहन मंत्रालय और ऑयल कंपनियों के बीच समझौता होगा।

गुजरने में औसतन 6 मिनट लगते हैं –

इसके साथ ही दो एप भी लांच किए जा रहे हैं, जो कि फास्टैग के लिए मददगार होंगे। अभी बिना फास्टैग के एक वाहन गुजरने में औसतन 6 मिनट लगते हैं। सड़क परिवहन मंत्रालय और एनएचएआई के देशभर में 479 टोल प्लाजा हैं। इनमें करीब 425 टोल में फास्टैग लेन उपलब्ध हैं। बचे 54 टोल में मार्च तक यह सेवा शुरू कर दी जाएगी।

वाहन चालकों का समय बचेगा –

इससे वाहन चालकों का टोल चार्ज देने में लगने वाला समय बचेगा। फास्टैग लेन से बिना फास्टैग वाले वाहनों की एंट्री नहीं होगी। अगर कोई वाहन एंट्री करता है, तो उस पर फाइन भी लगाया जा सकता है। हालांकि, अभी इस पर फैसला नहीं हुआ है।

सभी प्रमुख बैंकों के लिए विकल्प –

इसमें महानगरों के 200-200 पेट्रोल पंपों में फास्टैग उपलब्ध होंगे। इसके बाद क्रमवार अगले 6 माह के अंदर बड़े शहरों के 25 हजार पेट्रोल पंपों में भी यह सुविधा उपलब्ध होगी। इसके लिए सभी पेट्रोल पंप में बूथ बनाया जाएगा। फास्टैग को वाहन चालक बैंक अकाउंट, पेटीएम आदि से लिंक कर सकते हैं। अभी फास्टैग एनएचएआई द्वारा पंजीकृत बैंकों से ही मिलते थे।

ऐसे काम करेगा फास्टटैग –

फास्टैग एक तरह का बारकोड स्टीकर है, जो वाहन में लगाया जाता है। इसके कोड को आपके बैंक अकाउंट या पेटीएम से लिंक कर दिया जाता है। इसके बाद जब आप टोल प्लाजा से गुजरेंगे तो आपको वहां कोई कैश नहीं देना पड़ेगा। फास्टैग लेने वाले वाहन चालक जब टोल गेट के एंट्री प्वाइंट के करीब पहुंचेंगे तो गेट पर लगे सेंसर फास्टैग बारकोड को स्कैन कर सकेंगे।

  • 479 टोल प्लाजा हैं एनएच में।
  • 43 लाख वाहन रोज गुजरते हैं यहां से।
  • 6 मिनट औसत समय एक वाहन को।
  • 55 करोड़ रु. रोज आवक टोल से।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here