पाकिस्‍तान आर्मी हेडक्‍वार्टर के बाहर लगे आईएसआई मुर्दाबाद के नारे

0
25

पाकिस्तान में शनिवार (21 जुलाई) की रात में बेहद ही चौंकाने वाला नजारा देखने को मिला। यहां मुख्य पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज) के समर्थकों द्वारा रावलपिंडी में जनरल हेडक्वार्टर के सामने ‘आईएसआई मुर्दाबाद’ के नारे लगाए गए। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के समर्थक काफी बड़ी संख्या में पाकिस्तान आर्मी हेडक्वार्टर के सामने इकट्ठा हुए और आईएसआई मुर्दाबाद के नारे लगाए गए। इसके अलावा इन नारों में पाकिस्तानी आर्मी को बढ़ते आतंकवाद के लिए जिम्मेदार भी ठहराया गया। नवाज के समर्थकों ने ‘यह दो दहशतगर्दी है उसके पीछे वर्दी है’ के नारे लगाए।

नवाज के समर्थकों ने आरोप लगाया है कि 25 जुलाई को होने वाले जनरल इलेक्शन पहले से फिक्स हैं और देश की खुफिया एजेंसी आईएसआई (इंटर सर्विस इंटेलिजेंस) इन चुनावों में बड़ा हेर-फेर कर रही है। पीएमएल (एन) के समर्थक शनिवार को आर्मी हेडक्वार्टर के सामने इकट्ठा हुए और सड़कों पर जमकर नारेबाजी की गई। दरअसल, एंटी नार्कोटिक्स कोर्ट ने पीएमएल (एन) के नेता हनीफ अब्बासी को प्रतिबंधित रसायन एफेड्रिन के दुरूपयोग से संबंधित एक मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई है, जिसके बाद पीएमएल-एन के समर्थकों ने विरोध प्रदर्शन करते हुए आईएसआई मुर्दाबाद के नारे लगाए।

बलोच नेशनल मूवमेंट के नेता जफर बलोच ने ट्वीट कर कहा, ‘पाकिस्तान की सड़कों पर खुलेआम लोग आईएसआई मुर्दाबाद के नारे लगा रहे हैं। पाकिस्तान की आर्मा और खुफिया एजेंसी के खिलाफ इतिहास में पहली बार लोगों का इस कदर विरोध देखने को मिला।’ 14 जुलाई को इस्लामाबाद हाई कोर्ट के जज जस्टिस शौकत सिद्दीकी ने आईएसआई को न्यायपालिका और मीडिया पर नियंत्रण रखने के लिए जमकर लताड़ा था। रावलपिंडी बार एसोसिएशन में जस्टिस सिद्दीकी ने कहा था कि आईएसआई चीफ जस्टिस के ऊपर अपने पक्ष में मुकदमों का फैसला सुनाने के लिए दबाव बना रहा है, जिसमें नवाज शरीफ का भ्रष्टाचार का केस भी शामिल है। बता दें कि एवेनफील्ड भ्रष्टाचार के मामले में नवाज शरीफ और उनकी बेटी मरियम अडियाल जेल में क्रमश: 10 और सात साल की सजा काट रहे हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here