एमबीबीएस में दाखिले के नाम धोखाधड़ी करने वाले गैंग के दो सदस्य गाजियाबाद से गिरफ्तार

0
17

लखनऊ – उत्तर प्रदेश की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) की नोएडा यूनिट ने राजकीय मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस में प्रवेश दिलाने के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है। एसटीएफ ने शुक्रवार को फर्जीवाड़ा करने वाले गिरोह के दो सदस्यों को गाजियाबाद के थाना लिंक रोड क्षेत्र से गिरफ्तार किया। जिनके पास से 23 मोबाइल, 1280 नीट के माध्यम से मेडिकल परीक्षा में सम्मिलित हुए अभ्यर्थियों की सूची, 270 गाइडेंस पॉइंट कम्पनी के इन्फॉर्मेशन फॉर्म, 30 हजार रुपये नगद और कई फर्जी दस्तावेज समेत कई सामान बरामद हुआ है। आरोपी लगभग 92 छात्रों को धोखा देकर लगभग सवा करोड़ रुपए वसूल चुके हैं।

पकड़े गए आरोपियों की पहचान हमीरपुर के विधना निवासी आशीष कुमार उर्फ कुलदीप सिंह और महोबा जिले के कूरिया निवासी सुधीर सिंह उर्फ देवेश तिवारी के रूप में हुई है। यह गिरोह एमबीबीएस में दाखिले के नाम पर मेडिकल अभ्यार्थियों को विभिन्न प्रकार के कोटे का झांसा देकर जाल में फंसाता और बड़ी रक़म वसूल कर गायब हो जाता था।
यूपी एसटीएफ के डीएसपी राजकुमार मिश्रा ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी नीट उत्तीर्ण छात्र-छात्राओं को एमबीबीएस में दाखिले के नाम पर फर्जीवाड़ा करने के लिए संगठित गिरोह चलाते हैं। ये गैंग छात्रों को विभिन्न राजकीय मेडिकल कॉलेजों में अलग-अलग कोटे के तहत दाखिले का झांसा देता है और इसके लिए छात्रों से 10 से 30 लाख लाख रुपये वसूलते हैं। यह लोग दाखिले के लिए की जाने वाली पूरी प्रक्रिया अपनाते और अभ्यार्थियों को झांसा देकर इस पूरी फर्जी प्रक्रिया में उसने फर्जी फार्म और प्रपत्र भरवाते थे।

वहीं एसटीएफ नोएडा के प्रभारी एसपी राजीव नारायण मिश्रा ने बताया कि आरोपी आशीष कुमार और  सुधीर सिंह को मुखबिर की सूचना पर आज सुबह 11 बजे गाजियाबाद जिलें के लिंक थाना क्षेत्र के पैसिफिक बिजनेस पार्क के महाराजपुर के द्वितीय तल पर छापेमारी कर गिरफ्तार किया। गिरफ्तार आरोपियों के पास से 23 मोबाइल फोन, 3 लैंडलाइंड फोन, 3 डायरी, 270 गाइडेंस प्वाइंट कम्पनी के इन्फॉर्मेशन फॉर्म, 1280 नीट के माध्यम से मेडिकल परीक्षा में सम्मिलित हुए अभ्यर्थियों की सूची, 1 आगन्तुक रजिस्टर, 3 फर्जी मोहरें, 2 फर्जी आधार कार्ड, एमसीआई के नाम से 2 फॉर्म, गवर्नमेंट नॉमिनी कोटे के फॉर्म मय ओएमआर शीट, 4 बैंक ड्राफ्ट, 30 हजार रुपये नगद, 5 आइडिया सिम पैक और 1 हाथ से लिखी हुई प्रश्नोत्तरी बरामद हुई है। आरोपियों ने पूछताछ में अपने तीन और साथियों सहयोगी गुप्ता, नीरज त्रिपाठी एवं दीपक के नाम उजागर किए है, जिनकी एसटीएफ तलाश कर रही है।

एसपी मिश्रा ने बताया कि आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि उन लोगों ने पिछले सात माह में लगभग 92 अभ्यार्थियों-अभिभावकों से जालसाजी कर अब तक एक करोड़ 23 लाख 95 हजार रूपए वसूले हैं। पकड़े गए आरोपियों के खिलाफ गाजियाबाद के थाना लिंकरोड पर आईपीसी की धारा 420, 467, 468, 469, 470, 471, 411 414 के तहत मुकदमा दर्ज कर आगे की कार्यवाही की जा रही है।

Agency Input : (आईपीएन)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here