पुलिस के डर से भागे युवक की नाले में डूब कर मौत। – कैनविज टाइम्स

0
598

पुलिस के डर से भागे युवक की नाले में डूब कर मौत। परिजनों का सतखंडा पुलिस चौकी पर जम कर हंगामा तोड़ फोड़।-कैनविज टाइम्स

लखनऊ। ( वहाब उद्दीन सिद्दीक़ी ) राजधानी में जहां एक तरफ एसएसपी कलानिधि नैथानी अपनी पुलिस फोर्स को सही रास्ता दिखा रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ पुलिस अपना रंग दिखाती नजर आ रही है। जुआ खेल रहे आधा दर्जन लोगों को पुलिस द्वारा दौड़ाया गया तो युवक पुलिस के डर से भागे और गहरे नाले में कूद गए। नाले में कूदे चार लोगों में तीन लोग को पुलिस ने गोताखोरों की मदद से नाले से निकलवाया वही चौथा युवक को पुलिस निकालने में काफी देर तक असमर्थ रही है एक घंटे बाद गोताखोरों ने युवक को नाले से निकाला और उस को आनन-फानन में ट्रामा में भर्ती कराया जहां उसकी मौत हो गई। वहीं घर वालों ने पुलिस के ऊपर आरोप लगाया कि पुलिस ने युवक को दौड़ाया जिससे उसकी नाले में गिरकर मौत हो गई।

पूरा मामला राजधानी लखनऊ के थाना ठाकुरगंज क्षेत्र के गऊघाट बंधे का है जहां डी पी बोरा प्लाट पर इस्लाम उद्दीन अपने परिवार सहित रहते हैं उनके परिवार परिवार में पत्नी सामिया और दो बेटे असद और रज़ा हैं इस्लाम उद्दीन का बेटा मो. शादाब अंसारी ई रिक्शा चलाता था। परिवार वालो का कहना है कि मंगलवार की शाम 4 बजे मो. शादाब अपने चार पाँच दोस्तो के साथ बंधा स्थित पावर हॉउस के पास मौजूद था जहाँ कुछ लोग जुआ खेल रहे थे अचानक पुलिस आ गयी जिसे देख कर सभी जुआ खेल रहे लोग भागे उसी में मेरा बेटा भी भागा अचानक पैर फिसल जाने की वजह से वह नाले में गिर गया जिसको गोताखोर की मदद से बाहर निकालेने के बाद केजीएमयू के ट्रामा सेन्टर ले कर जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

वहीं पुलिस का कहना है की मो. शादाब गौ घाट पुलिस चौकी के पास के पास बैठकर जुआ खेल रहा था वहीं दो सिपाही बाइक से गश्त करते हुए वहाँ से गुज़रे हूटर की आवाज़ सुन कर जुआ खेल रहे लोगो मे भगदड़ मच गई पुलिस से बचने के लिए कुछ लोग नाले में कूद गए जो लोग तैरना जानते थे वो तो तैर कर बाहर आ गए किन्तु शादाब को तैरना नही आता था और वो पानी मे डूब गया।

वहीं परिजनों का आरोप है कि युवक बाहर बैठे हुए थे और पुलिस द्वारा उनको दौड़ाया गया। जिसमें तीन युवक बच गए और एक की मौत हो गई। वही पूरे मामले पर एएसपी पश्चिम विकास चंद्र त्रिपाठी ने बताया कि पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है और जो भी तथ्य सामने निकल कर आते हैं उसके आधार पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

परिजनों का सतखंडा पुलिस चौकी पर प्रदर्शन।

वहीं घटना से नाराज़ परिजनों ने भीड़ सहित सतखंडा पुलिस चौकी का घेराव कर पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन किया।

शादाब की मौत की ख़बर मिलते ही कुछ लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया पुलिस चौकी में मौजूद सिपाहियों की पिटाई कर दी तथा चौकी में तोड़फोड़ के साथ ही आग लगाने का प्रयास किया और चौकी पर खड़ी एक मोटरसाइकिल को भी तोड़ डाला।

जिसके बाद उच्च अधिकारियों द्वारा हस्तक्षेप कर किसी तरह से प्रदर्शन समाप्त करवाया गया।

परिजनो से ट्रामा सेन्टर में हर बार की तरह गार्डो ने की परिजनों से धक्का मुक्की।

लखनऊ के केजीएमयू का हाल बहुत ही बुरा है हर ओर से थक हार कर टूट चुके जब तीमारदारों को आख़री रास्ता केजीएमयू का दिखाई देता है वही एक आस होती है जहां से मरीज़ के परिवार वालो को एक उम्मीद होती है कि मेरा मरीज़ को यहाँ राहत मिलेगी किन्तु किसी पीड़ित का दर्द न समझने वाले और पूरी तरह से बेलागम हो चुके केजीएमयू के सेक्योरिटी गार्ड इस घटना में भी अक्रामक मुद्रा में नज़र आये।

एक तरफ़ जहां पीड़ित परिवार अपने जवान बेटे की मौत से दुःखी था तो वही दूसरी ओर अपनी आदत के अनुसार मृतक के परिवार वालो से ट्रामा सेंटर के गार्डो ने धक्का मुक्की की। जिसके बाद गार्डो से व परिजनों तीखी झड़प भी हुई जिसके बाद मौके पर मौजूद पुलिस ने किसी तरह मामले को शान्त कराया।

बंधे किनारे लगता है जुआरियों का जमावड़ा।

कुछ छेत्रवासियो का कहना है कि भले ही मो. शादाब निर्दोष था किंतु आये दिन बंधे किनारे शराबियों व जुआड़ियों का जमावड़ा लगता है। शाम ढलते ही अराजक तत्व इकट्ठे हो जाते हैं जिससे कि महिलाओं व युवतियों के वहाँ से गुजरना मुश्किल हो जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here