शिक्षक भर्ती परीक्षा की मेरिट पर हो टीईटी पास अभ्यर्थियों का चयन

सरकार केे कटआफ मेरिट हटाने पर छात्रों में रोष

0
17

प्रयागराज (कैनविज टाइम्स ब्यूरो) – टीईटी 2०18 के रिजल्ट आये अभी दो दिन ही बीते है कि टीईटी पास उम्मीदवारों के बीच शिक्षक भर्ती परीक्षा को लेकर असंमजस की स्थिति बन गयी है। शासन द्बारा जारी किये गये शिक्षक भर्ती नोटिफिकेशन जिसमें कटआफ समाप्त किये जाने का आदेश हो गया है इस कारण टीईटी पास बीएड, बीटीसी अभ्यर्थियों में यह संकट पैदा हो गया है कि 15० अंक की होने जा रही शिक्षक भर्ती परीक्षा में कितना अंक प्राप्त किया जाए कि शिक्षक भर्ती में चयन की सम्भावना पक्की हो जाये।

अभ्यर्थियों का कहना है कि सरकार की शिक्षक भर्ती केवल शिक्षा मित्रों के लिए निकाली गयी है या सभी टीईटी पास अन्य अभ्यर्थियों के लिए। एक तरफ वर्ष 2०11 के बीएड ब्ोरोजगारो की उम्र सीमा समाप्त हो रही है जिनके लिए सरकार द्बारा जारी विज्ञप्ति में कोई लाभ नही दिया गया जिसके कारण सैकड़ो अभ्यर्थी टीईटी परीक्षा तो पास कर लिया है लेकिन शिक्षक भर्ती में उम्र सीमा न बढ़ने से आवेदन करने से वंचित हो रहे है। बीएड किये हुए टीईटी पास अभ्यर्थियों ने शिक्षक भर्ती परीक्षा में एकेडमिक मेरिट को समाप्त कर शिक्षक भर्ती परीक्षा में प्राप्त किये अंक के आधार पर चयन की मांग किया है। इन अभ्यर्थियों का कहना है कि शिक्षा मित्रों का सरकार पहले ही 25 प्रतिशत का लाभ दे रही है जिसके कारण वह शिक्षक भर्ती परीक्षा में आवेदन करने के उपरान्त केवल परीक्षा में बैठ कर जितने भी अंक प्राप्त कर लेंगे उनका चयन निश्चत है। यह सरकार की दोहरी नीति है।

मेरिट बने तो चयन की सम्भावना प्रबल है –

इन अभ्यर्थियों का कहना है कि कटआफ निश्चत होने के कारण उत्तीर्ण किेये हुए अभ्यर्थियों का 25 प्रतिशत का लाभ दिया जाना चाहिए। टीईटी पास अभ्यर्थी अरविन्द तिवारी का कहना है कि वह बीएड किये हुए है और वह यदि 15० में 13० अंक प्राप्त कर ले तो भी चयन सुनिश्चत की सम्भावना कम है। क्योकि एकेडमिक मेरिट में गुणांक उनका 23 अंक बन रहा है। उनका कहना है कि एकेडमिक मेरिट के स्थान पर शिक्षक भर्ती परीक्षा के आधार पर मेरिट बने तो चयन की सम्भावना प्रबल है। टीईटी पास अभ्यर्थी राजेश कुमार सिंह का कहना है कि शिक्षक भर्ती परीक्षा में सरकार शिक्षा मित्रों के अलावा अन्य सभी अभ्यर्थियों के साथ धोखा दे रही है। उन्होने कहा कि एलटी ग्रेड की परीक्षा पहले एकेडमिक मेरिट के आधार पर लोकसेवा आयोग कराता था जिसे अब बन्द कर परीक्षा में मेरिट के आधार पर होने लगी है।

उन्होने कहा इसी आधार पर टीईटी पास शिक्षक भर्ती परीक्षा की मेरिट के आधार पर होना चाहिए। अमित सिंह ने दो महीने से वह फतेहपुर जनपद से प्रयागराज में परीक्षा की तैयारी करने में लगे है। टीईटी परीक्षा में 125 अंक भी प्राप्त कर लिया है। लेकिन शिक्षक भर्ती परीक्षा में कितने अंक प्राप्त करे कि उनका चयन हो जाये यही भय उनको सता रहा है। उन्होने कहा कि हाईस्कूल से लेकर बीएड तक उनका औसत प्रतिशत रहा है, इस कारण शिक्षक भर्ती में कितना अंक हासिल किया जाये कि सम्भावना प्रबल हो सके। उन्होने कहा कि यदि सरकार यह सुनिश्चत करे कि शिक्षक भर्ती में एक निश्चित कटआफ पर भर्ती होगी तो सम्भावना हो जायेगी। टीईटी परीक्षा में 92 अंक प्राप्त किये कैलासपति साहू ने कहा कि वह 2०11 में भी टीईटी पास किये थ्ो लेकिन उस भर्ती में कोर्ट में केस हो जाने के कारण चयन नही हो पाया इसकारण इस भर्ती के लिए दिन रात एक कर पढ़ाई में जुटे है लेकिन परीक्षा में चयन का आधार गलत होने के कारण डर समाया है।

उन्होने कहा कि उन्होने कहा कि हाईस्कूल की परीक्षा जब उन्होने दिया था तब 3० अंक का आन्तरिक नम्बर नही मिलता था जिसके कारण हाईस्कूल का प्रतिशत कम है। अब हाईस्कूल में सभी को सभी विषय में 3० अंक आन्तरिक मूल्यांकन का नम्बर मिल जाने के कारण छात्रों को 7० से 8० प्रतिशत की मेरिट बन जाती है। इसके अलावा बीटीसी परीक्षा में आन्तरिक मूल्यांकन के कारण 8० से 9० प्रतिशत की मेरिट बन जाने के कारण अब के अभ्यर्थियों का एकेडमिक गुंणाक अधिक हो गया है जिसके उन्हे भी भय सताया जा रहा है कि कितना अंक प्राप्त किया जाये कि शिक्षक भर्ती में चयन हो जाये। टीईटी उत्तीर्ण अभ्यर्थिनी चित्रा सिंह ने बताया कि इस बार लगभग 45००० शिक्षाि मत्र टीईटी पास है जबकि पिछले बार के 27 हजार शिक्षा मित्र टीईटी पास है ।

इस तरह कुल 72000 शिक्षा मित्र टीईटी पास जिन्हे अब अन्तिम मौका मिलेगा, सरकार ने 69००० शिक्षक भर्ती का विज्ञापन निकाला है जिसमें कटआफ निश्चत न होेने के कारण शिक्षा मित्रों को पहले ही 25 प्रतिशत का भारांक मिल जाने के कारण 63 प्रश्न का अंक मिल जायेगा और एकेडमिक मेरिट पहले से ही अच्छी है, शिक्षक भर्ती में यदि 5० अंक और प्राप्त कर लेगें तो उनका चयन निश्चित है और मै 12० प्रश्न सही करके भी आ जाये तो भी चयन होना मुश्किल है। उन्होने भी सरकार से शिक्षक भर्ती का चयन आधार 6 जनवरी को होने जा रही परीक्षा में प्राप्त अंक के आधार पर किये जाने की मांग किया है। टीईटी पास प्रवीण ने कहा कि वह हाईकोर्ट में रिट दाखिल करने जा रहे है कि बीएड टीईटी पास अभ्यर्थी को भी भारांक दिया जाये अन्यथा शिक्षक भर्ती में एकेडमिक मेरिट को समाप्त किया जाये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here